Tuesday, 12 July 2016

मानसून के मौसम में इन घरेलू उपायों से रहें स्वस्थ


तपती गर्मी के बाद मानसून की मस्ती भरी बारिश हर किसी के चेहरे पर खुशी और एक अजीब सा उत्साह ला देती है। बच्चों से लेकर बड़े तक बारिश के मौसम में सब कुछ भूल मानो खुद के साथ हमजोली खेलते हैं। लेकिन हम अपनी मस्ती में यह भूल जाते हैं कि यह मीठी-मीठी बारिश अपने साथ कई तरह की बीमारियां भी लेकर आई है। जिसकी गिरफ्त में आना कई बार बहुत महंगा सौदा भी साबित हो जाता है। ऐसे में बहुत जरूरी हो जाता है कि मानसून के मौसम में हम अपनी सेहत और खानपान पर विशेष ध्यान दें। तो आइए जानते हैं मानसून के मौसम में होने वाली बिमारियों से हम किस तरह घरेलू नुस्खों से आराम पा सकते हैं।

हाथों को अच्छी तरह से धोएं
मानसून के मौसम में बीमारियां घात लगाएं बैठी रहती है। जिसके चलते जरा सी लापरवाही बरतने पर हम उनकी चपेट में आ सकते  हैं। ऐसे मौसम में सर्दी जुकाम, वायरल, दस्त, टाइफाइड, पीलिया, डेंगू, फूड प्वॉइजनिंग और एलर्जी जैसी ​बिमारियों का होना आम बात है। इसलिए ऐसे मौसम ये जरूरी है कि आप थोड़ी-थोड़ी देर में हाथ-पैरों को साफ पानी से धोएं। खासतौर से खाना खाने से पहले और फिर बाद में।


शरीर में दर्द
बारिश में भीग जाने पर या फिर गीले कपड़े पहने रहने पर शरीर में दर्द की बहुत शिकायतें रहती हैं। जिन्हें कभी हम दवाओं से दूर करते हैं तो कभी झाड़ फूंक करवाते हैं। हालांकि इनके अलावा मार्किट में Dr.G का सूजीज़ स्प्रे मौजूद है। जिसके थोड़े से छिड़काव से आप पलभर में दर्द से आराम पा सकते हैं।

बासी खाने से परहेज करें
आजकल कोशिश करें कि बासी खाना ना खाएं। क्योंकि बासी खाने का सेवन करने से आप दस्त और इंफेक्शन की चपेट में आ सकते हैं। साथ ही बासी खाना हमारे पेट में फंगस बनाता है। जिससे हमारे पाचनतंत्र में दिक्कत आती है। ध्यान रखें कि आप जब भी किचन में जाएं तो चॉपिंग बोर्ड को अच्छी तरह से धोएं। जितना हो सके पानी पीएं और साफ फल खाएं।


फास्ट फूड को कहें 'नो'
फास्ट फूड यानि कि आजकल के मौसम मे चलती फिरती ​बीमारी से कम नहीं है। फास्ट फूड में अक्सर हम मक्खी-मच्छर को बैठा हुआ देखते हैं। लेकिन अपनी जीब के दबाव में आकर हम उन्हें नजरअंदाज कर देते हैं। जितना हो सके फास्ट फूड को ना खाएं। जरा सी लापरवाही टाइफाइड जैसी जानलेवा बीमारी को भी न्यौता दे सकती है।

घर में सफाई रखें
मानसून के मौसम में बारिश की कोई दिशा नहीं होती है। वह किसी भी दिशा में बरस सकती है। जिसके चलते अक्सर देखा जाता है कि मानसून के मौसम में घर और घर के बाहर पानी का जमाव रहता है। ऐसे में समय-समय पर अपने घर और घर के बाहर कीटनाशक दवाओं का इस्तेमाल करें। मक्खी-मच्छर को बिल्कुल भी आसपास भटकने ना दें। पोछा लगाते वक्त फिनाइल का प्रयोग करें


जितना हो सके पानी पीएं 
मानसून के मौसम में किसी भी कीमत पर पानी के साथ कोई समझौता ना करें। जितना हो सके समय-समय पर पानी पीते रहें। जिन लोगों के इलाके में साफ पानी नहीं आता है वह पानी को उबाल पर उसे ठंडा कर के पीएं। गंदे पानी के सेवन से अक्सर पीलिया और टाइफाइड की बिमारियां होती हैं।

0 comments:

Post a Comment