Wednesday, 10 August 2016

प्रोटीन सप्लीमेंट में 'आर्टिफिशल स्वीटनर' से रहे सावधान


समय पर खाना खाने के बावजूद आजकल अक्सर लोगों को शरीर में थकान और कमजोरी की शिकायत रहती है। ऐसा सिर्फ होता है क्योंकि हमारे खाने में प्रोटीन का अभाव होता है। शरीर में प्रोटीन की कमी होने पर अधिकतर लोग प्रोटीन सप्लीमेंट का सहारा लेते हैं। लेकिन कई बार हम लोग जानकारी के अभाव में गलत सप्लीमेंट्स का चयन कर लेते हैं। क्या आप जानते हैं कि आजकल मार्किट में बिजनेस को लेकर इतनी होड़ है कि व्यापारी टेस्ट बढ़ाने के लिए लोगों की सेहत के साथ खिलवाड़ करने में जरा भी नहीं कतराते हैं?

आजकल बाजारों में कई ऐसे सप्लीमेंट्स भी मिल रहे हैं जिनमें आर्टिफिशल स्वीटनर और फ्लेवर का इस्तेमाल किया जाता है। अगर आप अब यह सोच रहे हैं कि यह जानकारी आपके लिए नहीं है क्योंकि आप हमेशा ब्रैंडिड उत्पादों का इस्तेमाल करते हैं तो यह आपकी गलतफहमी है। क्योंकि मिलावट और छेड़छाड सिर्फ गुमनाम उत्पादों के साथ ही नहीं बल्कि कई बार नामी उत्पादों में भी देखने को मि​ल सकती है। इसलिए कोई भी हेल्थ उत्पाद खरीदने से पहले आर्टिफिशल स्वीटनर से सावधान रहें।

क्या है इसके दुष्प्रभाव
आर्टिफिशल स्वीटनर को डॉक्टरों की भाषा में सफेद जहर कहा जाता है। यानि कि अगर आप आर्टिफिशल स्वीटनर से बने सप्लीमेंट्स का ज्यादा समय तक प्रयोग करते हैं तो आप कोई गंभीर बीमारी की चपेट में आ सकते हैं।

प्रोटीओमेगा है सही विकल्प
समय पर खाना खाने के बावजूद शरीर में कमजोरी और थकान महसूस होने पर Dr.G wellness का आयुर्वेदिक हेल्थ सप्लीमेंट 'प्रोटीओमेगा' आपकी इस समस्या का हल है। प्रोटीओमेगा में स्टीविया की पत्तियों से कड़वे भाग को हटाकर मीठे भाग से नेचुरल स्वीटनर लिया गया है। यानि कि इस सप्लीमेंट में बिल्कुल भी आर्टिफिशल स्वीटनर नहीं है।


प्रोटीओमेगा एक ऐसा सप्लीमेंट है जिसके महज 20 ग्राम के पाउच में 10.87 ग्राम यानि कि आधे से ज्यादा मात्रा प्रोटीन की है। इसमें न्यूजीलैंड की घास खाने वाली गायों के दूध में पाए जाने वाले वे (Whey) प्रोटीन को लिया गया है। इसके साथ ही इसमें चिया सीड्स से ओमेगा-3 फैटी एसिड को लिया गया है। साथ ही इसमें कॉर्बोहाइड्रेट, फाइबर, फैट के साथ ही कई पोषक तत्व भी मौजूद हैं। नेचुरल स्वीटनर के साथ ही इसे स्वादिष्ट बनाने के लिए प्राकृतिक वनिला बीन्स से वनिला फ्लेवर को लिया गया है।

प्रोटीओमेगा को खराब होने से बचाने के लिए इसमें रोजमेरी और निसिन का इस्तेमाल किया गया है। इस आयुर्वेदिक हेल्थ सप्लीमेंट की सबसे अच्छी बात यह है कि इसके इस्तेमाल से पेट से जुड़ी कोई भी बीमारी नहीं होती है। बल्कि इसे लेक्टोस इन्टालरन्ट (जिन्हें दूध नहीं पचता) की समस्या से परेशान लोग भी ले सकते हैं।

विशेष— ध्यान रखें कि अगर आपके बच्चे या आप थोड़े मोटे हैं तो आप प्रोटीओमेगा को सिर्फ अनार, अनानास, और स्ट्राबेरी जैसे फलों की स्मूदी या पानी के साथ ले सकते हैं। अगर आप पतले या कमजोर हैं तो आप प्रोटीओमेगा को दूध या शेक के साथ ले सकते हैं। प्रोटीओमेगा का इस्तेमाल इतना आसान है कि आप इसे सफर के दौरान भी ले सकते हैं।

0 comments:

Post a Comment