Tuesday, 2 August 2016

इस तरह बच्चों को घेरती हैं लाइफस्टाइल बीमारियां


​टेलीविजन के आदि, जंक फूड और आउटडोर खेलों के प्रति रुचि खत्म होना बच्चों में लाइफस्टाइल बीमारियों के बढ़ने का सबसे बड़े कारण है। मेडिकल साइंस के मुताबिक आज के समय में लगभग 70 प्रतिशत बच्चे मोटापे, डायबिटिज, हार्ट और आंतों से जुड़ी बीमारियों के शिकार हैं। डॉक्टरों का कहना है कि इस स्थिति के लिए बच्चों का खानपान सबसे ज्यादा जिम्मेदार है।


दरअसल आजकल के बच्चे घर के खाने में कमियां निकाल कर कोशिश करते हैं कि किसी भी तरह उन्हें फास्ट फूड मिल जाए। ऐसी स्थिति में परिजनों का फर्ज बनता है कि वह बच्चों की ऐसी बातों का मानने के बजाय उन्हें घर के खाने और फास्ट फूड में फर्क बताएं। दूषित खानपान के चलते आजकल छोटे छोटे बच्चों को फूड पाइप, छोटी और बड़ी आंतें, लीवर, सांस नली और पेट से जुड़ी गंभीर बीमारियों हो रही है। इसका कारण सिर्फ खाने में प्रोटीन और अन्य पोषक तत्वों का अभाव है।


प्रोटीओमेगा है समाधान
अगर आपके बच्चे घर के खाने से परहेज करते हैं तो घबराइए मत। ऐसी स्थिति में आपको हाथ पर हाथ रखकर बैठने के बजाय अपने बच्चों को अलग से प्रोटीन देने की जरूरत है।  Dr.G wellness के प्रोटीओमेगा सप्लीमेंट को इस्मेमाल को इस्मेमाल पर आप बच्चों को शारीरिक और मानसिक दोनेां तरह से स्वस्थ बना सकते हैं। कैमिकल रहित इस सप्लीमेंट में प्रचुर मात्रा म़ें प्रोटीन, ओमेगा 3, ओमेगा 6, कैल्शियम, फाइबर, आयरन, फैट, एनर्जी समेत कई ऐसे पोषक तत्व शामिल हैं जो बच्चों के बेहतर विकास के लिए रामबाण है।

प्रोटीओमेगा के नियमित इस्तेमाल से आपके बच्चे का इम्यून सिस्टम मजबूत होगा। जिसके चलते आप अपने बच्चों को लाइफस्टाइल बीमारियों से बचा सकते हैं। सिर्फ 5 मिनट में आप अपने बच्चे को पानी, दूध या फिर उनके मनपसंद शेक में प्रोटीओमेगा को मिलाकर देने से उन्हें एक आसान तरह से स्वस्थ रख सकते हैं।

0 comments:

Post a Comment