Wednesday, 10 August 2016

बच्चों में सम्पूर्ण विकास के लिए मददगार है 'प्रोटीओमेगा'


पहले के समय में बच्चा लगभग 20 साल की उम्र के बाद अपने बराबर के बच्चों के साथ पढ़ाई और करियर को लेकर प्रतिस्पर्धा करता था। लेकिन आज के एडवांस समय को देखते हुए अक्सर माता-पिता छोटी सी उम्र में ही अपने बच्चों को उम्मीदों का टोकरा थमा देते हैं। ऐसी स्थि​ति में अगर बच्चा अपने परिजनों की उम्मीद पर खरा उतर गया तब तो ठीक, नहीं तो परिजन सफल बच्चों का उदाहरण देकर अपने बच्चों को उन​की प्राकृतिक क्षमता से भी कमजोर बना देते हैं।

संघर्षी वातावरण में हम लोग इतने अंधे हो गए हैं कि अपने बच्चों के खानपान पर ध्यान ही नहीं देते हैं। जबकि हकीकत यह है कि जब तक बच्चों के आहार में प्रोटीन शामिल नहीं होगा तक तक बच्चें एक स्वस्थ शरीर नहीं पा सकते। बच्चों के खानपान का स्तर ही उनकी मानसिक क्षमता को भी तय करता है।

आजकल का खानपान
आजकल बच्चे फास्ट फूड खाने के इतने आदि हो गए हैं कि उन्हें घर का बना खाना फीका लगता है। एक तो शहरों का प्रदूषण भरा माहौल और दूसरा बच्चों का बेकार खानपान उनके संपूर्ण विकास पर विराम लगा देता है। जिससे बच्चें छोटी सी उम्र में ही शारीरिक रूप से अस्वस्थ और कई गंभीर बीमारियों से घिरने लगते हैं।

हर माता पिता चाहते हैं कि उनका बच्चा स्वस्थ रहें। इस स्थिति में परिजन बच्चों के विकास के लिए बाजारों से हेल्थ सप्लीमेंट और दवाईयां लाते हैं और अपने बच्चों को उनका सेवन करने के लिए दबाव डालते हैं। जिससे अक्सर बच्चों में पेट फूलना, गैस, गंदी डकारे आना और पेट से जुड़ी अन्य बीमारियों के होने का खतरा रहता है।

संपूर्ण विकास के लिए सिर्फ प्रोटीओमेगा
Dr.G Wellness का आयुर्वेदिक हेल्थ सप्लीमेंट प्रोटीओमेगा यानि कि प्रोटीन, ओमेगा-3 फैटी एसिड और अन्य पोषक तत्वों से बना एक ऐसा हेल्थ सप्लीमेंट है जो बच्चों में सम्पूर्ण विकास करने में पूरी मदद करता है। इस हेल्थ सप्लीमेंट में न्यूजीलैंड की घास खाने वाली गायों के दूध में पाए जाने वाले वे (Whey) प्रोटीन को लिया गया है। चिया सीड से ओमेगा-3 फैटी एसिड और स्टीविया की पत्तियों से कड़वे भाग को हटाकर मीठे भाग से नेचुरल स्वीटनर लिया गया है।


रोजाना एक पाउच प्रोटीओमेगा हेल्थ सप्लीमेंट का इस्तेमाल करने से आपका बच्चा स्वस्थ रहने के साथ ही लाइफस्टाइल बीमारियों से भी दूर रहेगा। प्रोटीओमेगा के 20 ग्राम के पाउच में 10.87 ग्राम यानि कि आधे से ज्यादा मात्रा प्रोटीन की है। बच्चे अक्सर स्वादिष्ट चीजों का ही सेवन करते हैं। इसलिए प्रोटीओमेगा में प्राकृतिक वनिला बीन्स से वनिला फ्लेवर को लिया गया है। प्रोटीओमेगा को खराब होने से बचाने के लिए इसमें रोजमेरी और निसिन का इस्तेमाल किया गया है। इस लिहाज से आयुर्वेदिक हेल्थ सप्लीमेंट 'प्रोटीओमेगा' पूरी तरह सुरक्षित है। प्रोटीओमेगा की सबसे अच्छी बात यह है कि इसके इस्तेमाल से पेट से जुड़ी कोई भी बीमारी नहीं होती है। बल्कि इसे लेक्टोस इन्टालरन्ट (जिन्हें दूध नहीं पचता) की समस्या से परेशान लोग भी ले सकते हैं।

विशेष— यह सप्लीमेंट बच्चों के साथ ही हर उम्र के लोगों के लिए फायदेमंद है। ध्यान रखें कि अगर आपके बच्चे या आप थोड़े मोटे हैं तो आप प्रोटीओमेगा को अनार, अनानास और स्ट्राबेरी जैसे फलों की स्मूदी या पानी के साथ दे सकते हैं। अगर आप पतले या कमजोर हैं तो आप प्रोटीओमेगा को दूध या शेक के साथ ले सकते हैं। प्रोटीओमेगा का इस्तेमाल इतना आसान है कि आप इसे सफर के दौरान भी ले सकते हैं।

0 comments:

Post a Comment