Thursday, 4 August 2016

स्लो लर्नर बच्चों के लिए प्रोटीओमेगा है अमृत!


हर बच्चा एक जैसा नहीं होता है। किसी की स्मरण शक्ति और मेनटल ग्रोथ तेज होती है तो किसी की अपेक्षाकृत थोड़ी कम होती है। लेकिन अकसर माता-पिता यह बात समझने के बजाय अपने बच्चों की होशियार बच्चों से तुलना कर उन्हें परेशानी में डाल देते हैं। जिससे बच्चे खुद में सुधार करते करते एक स्टेज के बाद डिप्रेशन के शिकार हो जाते हैं। ऐसे में अपने बच्चों को किसी से कमतर आंकना गलत है।

अगर आप भी कुछ इसी तरह की समस्या का सामने कर रहे हैं तो बच्चों पर दबाव बनाने से पहले यह जानने कि कोशिश करिए कि जिस चीज के लिए आप अपने बच्चे पर दबाव बना रहे हैं उस काम में उसकी रूचि है भी या नहीं? इसके बाद आप यह देखिए कि उस काम को करने के लिए आपके बच्चे में उतनी शारीरिक क्षमता है या नहीं?


शारीरिक क्षमता से हमारा मतलब है कि बच्चे की डाइट कैसी है। क्योंकि जब तक बच्चा अपने आहार में प्रोटीन और पोषक तत्वों को शामिल नहीं करेगा तब वह स्लो लर्नर का शिकार रहेगा। अगर आपका बच्चा घर के बने खाने में दिलचस्पी नहीं लेता है तो यह जरूरी है कि आप उसे अलग से प्रोटीन सप्लीमेंट दें। इस स्थिति में आप अपने बच्चे के आहार में Dr.G wellness के प्रोटीओमेगा सप्लीमेंट को शामिल करें। बच्चे को हर रोज पानी, दूध या फिर किसी भी शेक्स में कुछ मात्रा प्रोटीओमेगा की देने से बच्चे के मानसिक विकास को बेहतर बनाया जा सकता है। प्रोटीओमेगा सप्लीमेंट इसलिए भी फायदेमंद है क्योंकि इसमें प्रोटीन, ओमेगा-3, फैट, कॉर्बोहाईड्रेट के साथ ही कई ऐसे पोषक तत्व भी शामिल हैं जो बच्चों को शारीरिक और मानसिक दोनों तरह से स्वस्थ रखते हैं।

0 comments:

Post a Comment