Wednesday, 10 August 2016

पेट की समस्या से हैं परेशान, तो अपनाएं 'प्रोटीओमेगा'


चाहे बच्चा हो या बड़ा, हर व्यक्ति एक स्वस्थ शरीर की चाहत रखता है। लेकिन आज के तनाव भरे जीवन, अनियमित और दूषित खानपान के चलते पेट फूलना, खट्टी डकारे आना और कांस्टीपेशन जैसी बीमारी का होना आम बात हो गई है। सबसे गंभीर बात यह है कि पेट की समस्या से जुड़ी ऐसी बीमारियां अकेले नहीं बल्कि अपने साथ और भी कई तरह की जानलेवा बीमारियां साथ लाती हैं। हालांकि ऐसी बीमारियों का संकेत आपका खराब पाचन तंत्र है।

क्या है इसका उपाय?
अगर इंसान का पेट सही नहीं है तो उसे अस्वस्थ कहने में कोई दोराय नहीं है। क्योंकि पेट से ही सभी बीमारियों की शुरुआत होती है। अगर आप या आपका बच्चा समय पर घर का खाना नहीं खा पा रहे हैं या समय पर खाना खाने के बावजूद आपको शरीर में कमजोरी और थकान महसूस होती है तो आप अलग से कोई प्रोटीन सप्लीमेंट ले सकते हैं। क्योंकि हमारे पाचन तंत्र को स्वस्थ रखने के लिए प्रोटीन की बहुत बड़ी भूमिका होती है।

अगर आप कोई ऐसे सप्लीमेंट की तलाश कर रहे हैं जिसमें नेचुरल प्रोटीन हो और इसके कोई साइड इफेक्ट्स भी ना हो तो  Dr.G wellness के आयुर्वेदिक हेल्थ सप्लीमेंट 'प्रोटीओमेगा' आपकी समस्या का हल है। क्योंकि प्रोटीओमेगा आयुर्वेदिक सप्लीमेंट को अच्छे स्वास्थ्य का सूचक कहा जाता है।


क्यों खास है प्रोटीओमेगा
इस आयुर्वेदिक हेल्थ सप्लीमेंट में न्यूजीलेंड की घास खाने वाली गायों के दूध में पाए जाने वाले वे (Whey) प्रोटीन को शामिल किया है। इसके साथ ही प्रोटीओमेगा में स्टीविया की पत्तियों से कड़वे भाग को हटाकर मीठे भाग से नेचुरल स्वीटनर और वनिला बीन्स से नेचुरल वनिला फ्लेवर को मिश्रित किया है। इसमें 2.6 ग्राम फाइबर है। फाइबर पेट में मौजूद गंंदगी को शरीर से बाहर निकाल कर हमारे पाचन तंत्र को चुस्त बनाता है। प्रोटीओमेगा को खराब होने से बचाने के लिए इसमें रोजमेरी और निसिन का इस्तेमाल किया गया है।

बाजार में मिलने वाल ज्यादातर हेल्थ सप्लीमेंट से पेट फूलना, गैस, गंदी डकारें आना और पेट से जुड़ी अन्य बीमारियों के होने का खतरा रहता है। जबकि Dr.G का आयुर्वेदिक हेल्थ सप्लीमेंट 'प्रोटीओमेगा' ऐसा सप्लीमेंट है जिससे पेट से जुड़ी बीमारी होना तो दूर इसे लेक्टोस इन्टालरन्ट (जिन्हें दूध नहीं पचता) की समस्या से परेशान लोग भी इसका आराम से इस्तेमाल कर सकते हैं।

विशेष— ध्यान रखें कि अगर आपके बच्चे या आप थोड़े बहुत भी मोटे हैं तो आप प्रोटीओमेगा सप्लीमेंट को अनार, अनानास और स्ट्राबेरी जैसे फलों की स्मूदी और पानी के साथ लें। वहीं, अगर आप कम वजन या थोड़ा कमजोर हैं तो आप प्रोटीओमेगा को दूध या फिर किसी भी शेक के साथ मिलाकर ले सकते हैं।

0 comments:

Post a Comment