Wednesday, 3 August 2016

#Breastfeeding : आज की महिलाओं को जरूर पता होनी चाहिए ये बातें!


चाहे महिला ग्रामीण हो या शहरी मां बनना हर एक महिला के लिए आत्मसम्मान की बात होती है। जब एक महिला अपने बच्चे को जन्म देने के बाद उसे पहली बार थामती है तो वह पल उसकी जिंदगी का सबसे कीमती और खास पल होता है। क्योंकि अपने शिशु को पकड़ते ही मां लेबर पेन के दर्द से लेकर दुनिया के हर गम को भूल जाती है।

#BreastFeeding: इस उम्र में म​हिलाएं कराती हैं 75% स्तनपान

मां का दूध नवजात शिशु के लिए अमृत के समान होता है, बावजूद इसके आजकल की महिलाएं अपना फिगर खराब होने के डर से अपने बच्चों को स्तनपान कराने से परहेज करती है। लेकिन क्या आप जानते हैं आप तब तक एक अच्छी मां नहीं बन सकते जब तक आप अपने शिशु को स्तनपान नहीं कराते। आज ब्रेस्टफीडिंग वीक के तीसरे दिन हम आपको बताएंगे कि ब्रेस्टफीडिंग से जुड़ी कुछ खास बातें आज के समय की हर मां को पता होनी चाहिए।


कोलोस्ट्रम है अमृत
डिलीवरी के बाद हर मां के स्तनों से गाढ़े पीला रंग का तरल पदार्थ निकलता है, जिसे मेडिकल की भाषा में कोलोस्ट्रम कहते हैं। पहले के समय में इसे गंदा पदार्थ कहकर छोड़ दिया जाता था। लेकिन आज के वैज्ञानिकों का कहना है कोलोस्ट्रम का सेवन करने पर शिशु को कई तरह के पौष्टिक तत्व मिलते हैं।

मे​डिकल साइंस का कहना है कि कोलोस्ट्रम में रोग-निरोधी और इम्युनोग्लोबुलिन प्रचुर मात्रा में होता है। यही वह गुण होता है जो बच्चे के पहले शोच को आने में मदद करता है। हर मां लगभग 50 मिलीलीटर कोलोस्ट्रम का उत्पान करती है। यानि की कोलोस्ट्रम सीमित समय तक ही रहता है। इसके बाद मां के दूध का रंग सफेद होने लगता है। कोलोस्ट्रम की सबसे बड़ी खासियत यह है कि इमसे विटामिन, प्रोटीन, कॉर्बोहाइड्रेट, फैट्स और मिनरल प्रचुर मात्रा में होता है।


दूध की ताकत
मां का दूध सिर्फ बच्चे का पेट भरने ही नहीं बल्कि उसे इंफेक्शन और बीमारियों से लड़ने में भी मदद करता है।मां का दूध पीने से बच्चे का इम्यून सिस्टम मजबूत होता है। जिससे बड़ा होकर वह कम बीमार पड़ता है।

बच्चे का वजन
क्या आप जानते हैं बच्चा जितनी तेजी से पहले साल में बढ़ता है उतना वह जीवन भर नहीं बढ़ता। बच्चे की इस ग्रोथ के लिए मां का दूध एक बड़ा रोल प्ले करता है। किसी भी स्वस्थ नवजात शिशु का वजन छह महीने बाद दोगुना और 12 महीने के बाद जन्म के वक्त के वजन का तीन गुना होना चाहिए।


दूध के गुण
मां के दूध में लेक्टोस के रूप में भारी मात्रा में कॉर्बोहाइड्रेट होता है। जो बच्चे के इम्यून सिस्टम को मजबूत बनता। मां के दूध में पाया जाने वाला फैट बच्चे को एनर्जी देता है। वहीं, डीएचए ऐसा गुण है जो बच्चे के मस्तिष्क को परिपक्व करता है। जबकि मिनिरल और विटामिन बच्चे के पाचन तंत्र को मजबू बनाते हैं।

विशेष— अगर आप भी अपने बच्चे को जीवनभर स्वस्थ और हंसता-खेलता देखना चाहती हैं तो अपने बच्चे को ब्रेस्टफीड जरूर कराएं। साइंस के मुताबिक जन्म के शुरुआती 6 महीने तक शिशु को सिर्फ मां का दूध ही देना चाहिए। अगर मां दो साल तक अपने बच्चे को दूध पिलाती है तो बच्चे की गंभीर बीमारी में फंसने की बहुत कम संभावना होती है।

0 comments:

Post a Comment